UrdHind News

I can write in different languages properly as Hindi,English and Urdu. I prepare my blog on attaractive and current topics.As,motivation, Education, Current affairs, Health and beauty, Politics, Religion, etcetera, Dear audience, If you want to read any your favourite topic, please intimate me. Insha Allah! I will write for you. No one can deny it, "Writing is companion of loneliness" Thank you.

Responsive Ads Here

Friday, September 20, 2019

Baby care tips.अपने शिशु की देखभाल कैसे करें?


जब किसी घर में कोई बच्चा जन्म लेता है तो पूरे घर में खुशी का माहौल बन जाता है!
माँ अपने पीड़ा व दर्द को भूल कर बच्चे के प्यार में मगन होजाती है,शिशु की जरा सा भी दर्द उनको बेचैन कर देता है!
ऐसे समय में माता पिता की इच्छा होती है कि उनका बच्चा स्वस्थ और सुन्दर हो उनको कोई भी परेशानी न हो!
तो इसके लिए जरूरी है कि माता-पिता को पूरा ज्ञान होना चाहिए कि बच्चे को कैसे स्तनपान कराएं? कैसे गोद में उठाएं?  कैसे नहलाएं? इत्यादि!


साफ सफाई का खास ध्यान रखें!

जब कोई शिशु जन्म लेता है तो उनके कीटाणु Virus से लड़ने की क्षमता बहुत कम होती है इसलिए ऐसे समय में बच्चे की साफ-सफाई पर खास ध्यान दें!ताकि ऐसा न हो कि साफ-सफाई पर ध्यान न देने की वजह से बच्चा कोई रोग से ग्रस्त हो जाए! अगर ऐसा हो तो तुरंत Doctor से सम्पर्क करें!
बच्चे के लिए कोई भी massage oil या साबुन तेल इत्यादि लेने से पहले Child specialist  या घर के बड़े लोगों से जरूर राय लें!


बच्चों को माँ का दूध ही पिलाएं!


माँ का दूध बच्चा के लिए सर्वोत्तम होता है! हर माँ के लिए जरूरी है कि शिशु को अपना ही दूध पिलाएं क्योंकि इनसे बच्चे का स्वास्थ्य अच्छा रहता है!
बच्चे को रोग से दूर रखता है! बच्चे को अपने समय पर स्तनपान कराएं,एक स्तन से 10 से 15 तक फिर इसी प्रकार दूसरे स्तन से, इस में कोताही न करें!अगर शिशु 3-4 घंटे तक लगातार सोता रहे तो बच्चे को जगाकर स्तनपान कराएं!


बच्चे का डाइपर समय समय पर बदलते रहें!

बहुत से माँ बच्चे को कपड़े का लंगोट या  Disposable डाइपर पहनाती हैं! ताकि कपड़े या बेड शीट गंदे न हों!
दिन में कम से कम 10-11 बार बदलते रहें! इस से शिशु Skin disease से बचा रहे गा!


बच्चे को गोद में कैसे उठाएं?

अगर माँ कोई काम करनेके बाद बच्चे को गोद लेना चाहे तो पहले आपना हाथ साबुन से धो ले! क्योंकि बच्चे का ammune system इतना मजबूत नहीं होता इस से बच्चे को Infection होने का  डर रहता है!

बच्चे को उठाते समय गर्दन पर  support  बनाएं रखें क्योंकि जन्म के बाद गर्दन में धीरे-धीरे ताकत आती है!

शिशु को जोर जोर से न हिलाएं!इस से  बच्चे को Bone और नस का problem हो सकता है!

अगर इन points पर ध्यान रखते हुए शिशु की nourishing की जाए तो बच्चा स्वस्थ रहेगा!

No comments:

Post a Comment