UrdHind News

I can write in different languages properly as Hindi,English and Urdu. I prepare my blog on attaractive and current topics.As,motivation, Education, Current affairs, Health and beauty, Politics, Religion, etcetera, Dear audience, If you want to read any your favourite topic, please intimate me. Insha Allah! I will write for you. No one can deny it, "Writing is companion of loneliness" Thank you.

Responsive Ads Here

Monday, April 20, 2020

नाट्य शिक्षा क्या है? (What is Drama Education?)

 नाट्य शिक्षा क्या है? 

(What is Drama Education?) 



नाट्य शिक्षा थियेटर के अवयवों यथा पहनावे, दृश्य, प्रकाश, संगीत, संवाद, ध्वनियाँ, कहानियां की पुनरावृत्ति आदि का प्रयोग बच्चों के अधिगम अनुभवों, को बढ़ाने के लिए किया जाता है।
सभी कलाओं की तरह, नाटक छात्रों को नए तरीकों से संवाद करने और समझने की अनुमति देता है। ... नाटक एक ऐसी दुनिया में रहने और काम करने के लिए छात्रों को तैयार करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो पदानुक्रम के बजाय तेजी से टीम-ओरिएंटेड है। नाटक छात्रों को टोलरेंस और एम्पाटी विकसित करने में भी मदद करता है।

नाटकीय कला शिक्षा समस्या समाधान में रचना को उत्तेजित करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। यह छात्रों को अपने विश्व के बारे में और खुद के बारे में बता सकता है। नाटकीय अन्वेषण छात्रों को भावनाओं, विचारों और सपनों के लिए एक आउटलेट प्रदान कर सकता है, जिनके पास अन्यथा व्यक्त करने का साधन नहीं हो सकता है।



नाटक की गिनती काव्यों में है। काव्य दो प्रकार के माने गये हैं श्रव्य और दृश्य। इसी दृश्य काव्य का एक भेद नाटक माना गया है। पर दृष्टि द्वारा मुख्य रूप से इसका ग्रहण होने के कारण दृश्य काव्य मात्र को नाटक कहने लगे हैं।


भरतमुनि का नाट्यशास्त्र इस विषय का सबसे प्राचीन ग्रंथ मिलता है। अग्निपुराण में भी नाटक के लक्षण आदि का निरूपण है। उसमें एक प्रकार के काव्य का नाम प्रकीर्ण कहा गया है। इस प्रकीर्ण के दो भेद है— काव्य और अभिनेय। अग्निपुराण में दृश्य काव्य या रूपक के 27 भेद कहे गए हैं—
नाटक, प्रकरण, डिम, ईहामृग, समवकार, प्रहसन, व्यायोग, भाण, वीथी, अंक, त्रोटक, नाटिका, सट्टक, शिल्पक, विलासिका,
दुर्मल्लिका, प्रस्थान, भाणिका, भाणी, गोष्ठी, हल्लीशक, काव्य, श्रीनिगदित, नाटयरासक, रासक, उल्लाप्यक और प्रेक्षण।
साहित्यदर्पण में नाटक के लक्षण, भेद आदि अधिक स्पष्ट रूप से दिए हैं।


ऊपर लिखा जा चुका है कि दृश्य काव्य के एक भेद का नाम नाटक है। दृश्य काव्य के मुख्य दो विभाग हैं— रूपक और उपरूपक। रूपक के दस भेद हैं— रूपक, नाटक, प्रकरण, भाण, व्यायोग, समवकार, ड़िम, ईहामृग, अंकवीथी और प्रहसन। उपरूपक के अठारह भेद हैं— नाटिका, त्रोटक, गोष्ठी, सट्टक, नाटयरासक, प्रस्थान, उल्लाप्य, काव्य, प्रेक्षणा, रासक, संलापक, श्रीगदित, शिंपक, विलासिका, दुर्मल्लिका, प्रकरणिका, हल्लीशा और भणिका।


उपर्युक्त भेदों के अनुसार नाटक शब्द दृश्य काव्य मात्र के अर्थ में बोलते हैं। साहित्यदर्पण के अनुसार नाटक किसी ख्यात वृत्त (प्रसिद्ध आख्यान, कल्पित नहीं) की लेकर लिखाना चाहिए। वह बहुत प्रकार के विलास, सुख, दुःख, तथा अनेक रसों से युक्त होना चाहिए। उसमें पाँच से लेकर दस तक अंक होने चाहिए। नाटक का नायक धीरोदात्त तथा प्रख्यात वंश का कोई प्रतापी पुरुष या राजर्षि होना चाहिए। नाटक के प्रधान या अंगी रस शृंगार और वीर हैं। शेष रस गौण रूप से आते हैं। शांति, करुणा आदि जिस रुपक में में प्रथान हो वह नाटक नहीं कहला सकता। संधिस्थल में कोई विस्मयजनक व्यापार होना चाहिए। उपसंहार में मंगल ही दिखाया जाना चाहिए। वियोगांत नाटक संस्कृत अलंकार शास्त्र के विरुद्ध है।



नाटक के प्रमुख तत्व.

  • कथावस्तु
नाटक की कथावस्तु पौराणिक, ऐतिहासिक, काल्पनिक या सामाजिक हो सकती है।
  • पात्र
पात्रों का सजीव और प्रभावशाली चरित्र ही नाटक की जान होता है। कथावस्तु के अनुरूप नायक धीरोदात्त, धीर ललित, धीर शांत या धीरोद्धत हो सकता है।
  • रस
नाटक में नवरसों में से आठ का ही परिपाक होता है। शांत रस नाटक के लिए निषिद्ध माना गया है। वीर या शृंगार में से कोई एक नाटक का प्रधान रस होता है।
  • अभिनय

अभिनय भी नाटक का प्रमुख तत्व है। इसकी श्रेष्ठता पात्रों के वाक्चातुर्य और अभिनय कला पर निर्भर है। मुख्य प्रकार से अभिनय 4 प्रकार का होता हॅ।
  • 1 - आंगिक अभिनय (शरीर से किया जाने वाला अभिनय),
  • 2 - वाचिक अभिनय (संवाद का अभिनय [रेडियो नाटक ],
  • 3 - आहार्य अभिनय (वेषभूषा, मेकअप, स्टेज विन्यास्, प्रकाश व्यवस्था आदि),
  • 4 - सात्विक अभिनय (अंतरात्मा से किया गया अभिनय [ रस आदि.

No comments:

Post a Comment